कोरोना महामारी में रामबाण है पल्स ऑक्सीमीटर।

हम सभी जानते हैं कि कोरोना महामारी अपनी पूरी चरम सीमा पर है। दिन प्रतिदिन कोरोना मरीजों की संख्या बढ़ती जा रही है।
हमारी थोड़ी सी लापरवाही ही इस समय हमें और हमारे अपनों पर भारी पड़ सकती है। दिन प्रतिदिन बढ़ती मरीजों की संख्या से अस्पतालों में बर्ड्स की कमी बढ़ती जा रही है परंतु मरीजों की संख्या घटने का नाम नहीं ले रही है। ऐसे हालातों को देखते हुए दिल्ली जैसे महानगर व अन्य कई राज्य सरकारों द्वारा कोरोना मरीजों को घर पर ही क्वॉरेंटाइन होने की सलाह दी जा रही है।
ऐसे में अगर आप घर पर क्वॉरेंटाइन हो जाते हैं तो आपकी सूचना सरकार तक पहुंच जाती है। सरकार आपके घर पर ही आप का इलाज करेगी। डॉक्टर्स की टीम आपके घर आएगी आपको घर पर क्वॉरेंटाइन होने के बारे में हिदायत देगी। आप अगर उन हिदायतो का सख्ती से पालन करते हैं। तो आप अपनों को संक्रमण से बचा सकते हैं। डॉक्टर्स की टीम आपको दवाइयां,थर्मामीटर व एक पल्स ऑक्सीमीटर भी देकर जाएंगे। पल्स ऑक्सीमीटर से आप समय-समय पर अपना ऑक्सीजन लेवल माप सकेंगे।

पल्स ऑक्सीमीटर क्या है?|WHAT IS PULSE OXIMETER?

पल्स ऑक्सीमीटर एक इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस है जो हमारे खून में मौजूद ऑक्सीजन लेवल को मापता है। इस डिवाइस के अंदर एक सेंसर लगा होता है जो ऑक्सीजन के जरा से उतार-चढ़ाव को भी आसानी से भांप लेता है। इस डिवाइस में आपको एक छोटी सी स्क्रीन भी मिलती है जिस पर आपको अपने ऑक्सीजन लेवल की जानकारी दर्शाई जाती है। इस पल्स ऑक्सीमीटर से आप घर पर कभी भी अपना ऑक्सीजन लेवल आसानी से माप सकते हैं।इसे इस्तेमाल करना भी बहुत आसान है।

पल्स ऑक्सीमीटर किन लोगों के लिए है लाभकारी।

पल्स ऑक्सीमीटर कोरोना मरीजों के लिए तो एक रामबाण की तरह साबित हुआ है। क्योंकि कोरोनावायरस फेफड़ों पर अटैक करता है। इस बीमारी में मरीज को एकदम से ऑक्सीजन की कमी होने लगती है फेफड़े सुकड़ने लगते हैं। ऐसे हालात में पल्स ऑक्सीमीटर आपको तुरंत सूचित कर देता है कि आपका ऑक्सीजन लेवल कम हो रहा है ताकि आप समय पर इलाज कर सकें इसके अलावा सांस से संबंधित रोगियों के लिए भी ऑक्सीमीटर बहुत लाभकारी साबित होता है।

पल्स ऑक्सीमीटर का इस्तेमाल कैसे करें।

पल्स ऑक्सीमीटर का इस्तेमाल करना बहुत ही आसान है यह पल्स ऑक्सीमीटर हमारे ऑक्सीजन लेवल के साथ-साथ हमारी पल्स रेट को भी मापने का काम करता है। इसमें एक बटन दिया होता है हमने उस बटन से पल्स ऑक्सीमीटर को ऑन करना है ऑक्सीमीटर ऑन होते ही इसके अंदर लगे सेंसर की लाइट जलना शुरू हो जाती है। अब आपने अपनी उंगली सेंसर पर रखनी है जब तक ऑक्सी मीटर आपकी पल्स रेट और ऑक्सीजन लेवल को अच्छी तरह माप नहीं लेता तब तक आपने इंतजार करना है उंगली को सेंसर पर ही लगाए रखना है। अब आप ऊपर दी गई सकरीन में अपनी पल्स रेट और ऑक्सीजन लेवल को देख सकते हैं। यदि आपका ऑक्सीजन लेवल 95 से 100 के बीच में है तो आपका ऑक्सीजन लेवल बिल्कुल सही है और अगर आपका ऑक्सीजन लेवल 90 से कम आता है तो आपको तुरंत डॉक्टर की सलाह लेनी चाहिए। एक बार ऑक्सीजन लेवल 90 से कम देखने पर घबराने की जरूरत नहीं है। क्योंकि कई बार डिवाइस में किसी तकनीकी गड़बड़ी के कारण भी ऐसा हो सकता है। ऐसे में आप एक बार दोबारा से ऑक्सीजन लेवल की जांच करें।

ऑक्सीमीटर लेते समय धोखाधड़ी से बचें।

आजकल कोरोना महामारी के चलते पल्स ऑक्सीमीटर की डिमांड बहुत बढ़ गई है। ऐसे में धोखाधड़ी भी अपनी चरम सीमा पर चल रही है। धोखेबाज पैसे कमाने के लालच में आपको सस्ते दामों पर गलत ऑक्सीमीटर दे सकते हैं। पल्स ऑक्सीमीटर लेने से पहले आप डॉक्टर की सलाह जरूर लें। ताकि आप धोखाधड़ी का शिकार न हो।सही ऑक्सीमीटर आपको थोड़ा महंगा जरूर मिल सकता है लेकिन इसमें आपके स्वस्थ है के साथ कोई खिलवाड़ नहीं होगा।

Leave a Comment