विश्व बाल श्रम निषेध दिवस 2021||World Child Labor Prohibition Day 2021

हम सब जानते हैं कि हमारे देश का भविष्य हमारे आने वाले बालक हैं।बालकों को देखकर हम देश के भविष्य के बारे में अनुमान लगा सकते हैं अगर किसी देश के बच्चे पढ़े-लिखे हैं तो समझो देश तरक्की की राह पर चल रहा है लेकिन अगर वही बच्चे अपनी बाल आयु में मजदूरी कर रहे हैं तो समझो देश का भविष्य अंधकार में है। आजकल हम कई बार छोटे-छोटे बच्चों को मजदूरी करता व भीख मांगता देखते हैं। वह ऐसा जानबूझकर नहीं करते इसके पीछे बहुत सारे कारण जुड़े होते हैं। इन सभी पर चर्चा करने और लोगों को जागरूक करने के लिए ही विश्व बाल श्रम दिवस मनाया जाता है।

बाल श्रम दिवस पर निबंध|| Essay On Child Labor Day

बाल श्रम एक कानूनी अपराध है। भारतीय संविधान की धारा 24 के तहत 14 वर्ष की आयु से कम वाले बच्चों से काम( श्रम,मजदूरी) करवाने वाले पर सख्त कार्रवाई की जाएगी। बाल श्रम हमारे देश में एक बहुत बड़ी समस्या बनकर खड़ी हुई है। सरकार ने इसके हल के लिए बहुत प्रयास किए हैं लेकिन इस समस्या का हल इतना आसान नहीं है यह एक ऐसी आर्थिक,सामाजिक व गरीबी से जुड़ी हुई समस्या है जिसका हल निकालना अकेले सरकार के हाथ में नहीं है। इसके लिए सभी को एकजुट होकर काम करने की आवश्यकता है, बाल मजदूरी को रोकने के लिए पहले भी बहुत प्रयास किए गए व अपना अध्ययन पूरा करने के बाद सभी ने यह सुझाव दिया कि जब तक देश में गरीबी समाप्त नहीं होगी,तब तक बाल मजदूरी को समाप्त करना असंभव है। क्योंकि गरीबी के हालात में ही बच्चों को मजदूरी करने के लिए मजबूर होना पड़ता है। हर बच्चा पढ़ना चाहता है किसी आर्थिक सामाजिक रुप से कमजोर होने के कारण बच्चे को मजदूरी करनी पड़ती है।

इसके अलावा और भी समस्याएं हैं कम आयु के बच्चों का शोषण करना आसान होता है इस कारण भी कुछ लोग उन से काम करवाते हैं दूसरा मां-बाप का जागरूक न होना। कई मां बाप अपने बच्चों को स्कूल न भेजकर काम पर लगाते हैं ताकि अधिक धन आ सके।

बाल श्रम दिवस का उद्देश्य||Purpose Of Child Labor Day

बाल श्रम दिवस हर साल 12 जून को मनाया जाता है इसकी शुरुआत 2002 में हुई। बाल श्रम दिवस को मनाने का उद्देश्य यह है की देश में दिन- प्रतिदिन बढ़ते बाल श्रम को कैसे रोका जाए। इसके लिए कैसे लोगों को जागरूक किया जाए। बाल श्रम को समाप्त करने के लिए हम सभी को सरकार का साथ देना चाहिए। तभी हम इस कार्य में सफल हो पाएंगे। इसके लिए हमें इस वर्षिक बाल श्रम दिवस पर यह प्रण लेना चाहिए कि हम सब कम से कम एक बच्चे को मजदूरी से हटाकर स्कूल में भेजने का जिम्मा लेंगे और उसके अभिभावकों को बच्चों से काम न करवाने के बारे में जागरूक करें। तभी हम इस समस्या को बिल्कुल समाप्त कर सकते हैं।

बाल श्रम दिवस पर कविता||Poem on Child Labor Day

होनी चाहिए जिन हाथों में कलम
गारे में वे सन रहे।

कल होनी है जिनके हाथों में देश की लगाम
ईट-गारे के भोझ में वे दब रहे।

बीतना था जो बचपन खेलकूद में
गरीबी के कारण मजदूरी में वह बीत रहा।

देखो कैसा देश का नन्हा
पेट से भूखा मर रहा।

जिसके सूखे चेहरे पर
मजदूरी का ध्वज लहराए।

ऐसा इनका बचपन
बाल श्रम कहलाए।
बाल श्रम कहलाए।

बाल श्रम दिवस पर नारे शायरी||Slogans Shayari on Child Labor Day

सभी को समझाना है
जागरूक सबको बनाना है
बाल श्रम को मिटाना हैं।।

बाल श्रम को मिटायेंगे
देश का भविष्य बनाएंगे।।

जब तक रहेगा बाल श्रम,नहीं होगा चैन अमन।

Leave a Comment